प्रमुख जानकारी
मंदिर प्रशासन
यात्री व्यवस्था
अन्य आकर्षण
ऑफिशियल एप
Get it on Google Play
मौसम समाचार
संगम
     
   
  नर्मदा एवं कावेरी नदी का संगम ओंकारेश्वर में होता है. दोनों नदिया मान्धाता द्वीप के इर्द गिर्द बहती हैं एवं यहाँ मिलती हैं. मुख्य शहर से मंदिर कि और देखें तो यह बाएं और है. संगम दो नदियों के मिलने का स्थल होने के कारन पवित्र माना जाता है.  
     
  भक्तगण पैदल अथवा नाव द्वारा संगम तक जाते हैं यह परिक्रमापथ में भी पड़ता है. ऐसा माना जाता है कि संगम में स्नान करने से समस्त पापों से मुक्ति मिल जाती है.