मंदिर प्रशासन
यात्री व्यवस्था
अन्य आकर्षण
एक झलक
और विडियो देखें
मौसम समाचार
शयन आरती एवं शयन दर्शन
     
   
 
भगवान् ओंकारेश्वर की शयन आरती के पश्चात रात्रि ९ बजे से ९:३० बजे तक भगवान् के शयन दर्शन होते है। जिसमे भगवान् के शयन हेतु चांदी का झूला लगाया जाता है, तथा शयन सेज बिछाई जाती है, तथा सेज पर चोपड़ पासा सजाया जाता है एवं संपूर्ण गर्भगृह का आकर्षक श्रृंगार किया जाता है। ऐसी किवदंती है कि प्रतिदिन भगवान् भोलेनाथ एवं माता पार्वती रात्रि विश्राम हेतु यहाँ विराजते है। अतः श्रद्धालु एवं दर्शनार्थी भगवान् ओंकारेश्वर के शयन दर्शन अवश्य करे। यदि श्रद्धालु एवं दर्शनार्थी अपने शुभ प्रसंगों के अवसर पर विशेष श्रृंगार कराना चाहते है तो मंदिर कार्यालय में संपर्क कर जानकारी प्राप्त कर सकते है।

 
 
पूजन भेंट राशि
शयन श्रंगार आरती हेतु भेंट राशि                                  २१००/-