शयन श्रृंगार दान 
     
   
  श्री ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग में अनादि काल से भगवान शिव एवं माता पार्वती हेतु शयन श्रृंगार व्यवस्था की जाती है. भगवान् ओंकारेश्वर की शयन आरती के पश्चात रात्रि ९ बजे से ९:३० बजे तक भगवान् के शयन दर्शन होते है। जिसमे भगवान् के शयन हेतु चांदी का झूला लगाया जाता है, तथा शयन सेज बिछाई जाती है, तथा सेज पर चोपड़ पासा, चंवर डमरू आदि सजाया जाता है एवं संपूर्ण गर्भगृह का आकर्षक श्रृंगार किया जाता है। मान्यतानुसार प्रतिदिन भगवान् भोलेनाथ एवं माता पार्वती रात्रि विश्राम हेतु यहाँ विराजते है।
इस शयन व्यवस्था में प्रतिदिन नवीन साज-सज्जा की जाती है. गर्भ ग्रह के श्रृंगार हेतु उच्च कोटि की सामग्री द्वारा सेज, झूला एवं फर्श की सज्जा हेतु रेशमी सेट बनाया जाता है. इस सेट में तकिए के कवर, मसनद के कवर, फर्श की बिछायत , गलीचे, सेज हेतु चादर, बिछौने हेतु चादर, माताजी एवं भोले नाथ हेतु वस्त्र, शिवलिंग के आसपास लगाने हेतु कवर एवं अन्य कई वस्तुएं बनाई जाती है.
संपूर्ण विश्व में यह व्यवस्था केवल श्री ओम्कारेश्वर ज्योतिर्लिंग में ही की जाती है. यदि आप इस हेतु दान देकर एक संपूर्ण शयन श्रृंगार सेट समर्पित करना चाहते हैं दिए बटन पर क्लिक करें. आप रंग एवं डिजाइन  सम्बन्धी निर्देश हेल्पलाइन पर संपर्क कर के दे सकते हैं.
 
 
पूजन भेंट राशि
शयन श्रंगार दान हेतु भेंट राशि                                  ११०००/-                       
   
 
     
 
 
विशेष सुविधाएं
पूजन आरती भोग
संस्कार जाप दान
ओंकार स्टोर
उपयोगी
बुकिंग सहायता

समय प्रातः 8 बजे से शाम 8 बजे

दान भेंट विकल्प
लाइव दर्शन
सोशल
  
फ़ॉलो करें